भारतीय संगीत का जनक कौन है?


आज हम आपको बताएँगे की भारतीय संगीत का जनक कौन है? इस जानकारी को आप अपने मित्रो और परिजनों के साथ भी साझा कर सकते है, किसी प्रकार की परीक्षा में यदि यह प्रश्न पूछा गया तो आप आसानी से इसका उत्तर दे सकेंगे। आइये जानते है इस प्रश्न के उत्तर के बारे में।

भारतीय संगीत का जनक कौन है?

भारतीय संगीत का जनक भगवान शिव को माना गया है। ऐसी मान्यता है की ॐ से ही भगवान शंकर उत्त्पति हुई है शिव से पहले इस संसार कोई नही था और ना ही किसी को संगीत की जानकारी थी। ब्रह्मनाद से शिव की उत्त्पति हुई है और उनके साथ ‘रज’ और ‘तम’ ये तीनों गुण भी जन्मे थे यदि गुण त्रिशूल कहलाते है। भगवान शंकर के तांडव नृत्य के बारे में हर कोई जानता है जब वे क्रोधित होते है तब तांडव नृत्य करते है तथा डमरू की ध्वनी पर यह नृत्य किया जाता है। जब शंकर भगवान तांडव करते हैं तो उनका यह रूप नटराज कहलता है। भगवान शिव का एक रूप नटराज भी है। भारतीय संगीत प्राचीन काल से ही भारत मे सुना और विकसित होता रहा है। संगीत का प्रारंभ वैदिक काल से भी पहले का माना जाता है। हिंदु परंपरा मे एक मान्यता यह भी है कि ब्रह्मा ने नारद मुनि को संगीत वरदान में दिया था।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment