फौजी की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है ?



फौज का नाम सुनते है देश के हर व्यक्ति के मन में जोश जाग उठता है | भारत देश में तो युवाओ के मन में फौज के प्रति जोश कूट-कूट के भरा हुआ है |क्या आप जानते हैं की फौज या सेना में सेनिक ओर अन्य पदों पर कितना-कितना वेतन मिलता है? आज हम इस बारे में आपको सारी जानकारी देंगे, सेना में रेंक के आधार पर वेतन एवं अन्य सुविधाए दी जाती है| सातवे वेतनमान के लागु होने के बाद से सेना के पे मेट्रिक्स टेबल को समझना ओर भी आसान हो गया है| बहुत से लोगो यह नहीं पता होता है की फौजी की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है। यह जानने के लिए इस पोस्ट को आखिर पड़े यहां आपको सेनाओ से जुडी काफी जानकारी मिल जाएगी।

फौजी की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है ?

भारतीय सेना में सैनिक की सेलरी उसके पद के आधार पर होती है। यद्दी वह उच्च पद पर है तो उसकी सैलरी निम्न पदों वालो से अधिक होगी। सैनिक को उसके कठिन परिश्रम और योग्यता के अनुसार पद दिया जाता है। जैसा की हम जानते है की जितना ऊंचा पद होता है उतनी ज्यादा रिस्पांसिबिलिटी भी होती है। युद्ध के समय अनुभवी और योग्य केप्टन की जरूरत होती है वैसे तो भारत का हर एक सैनिक दुश्मन सैनिक के मुकाबले काफी ज्यादा ताकतवर और हिम्मत वाले होते पर एक अनुभवी कैप्टन के होने की वजह से हमारे सैनिक काफी अच्छे देश की रक्षा कर पाते है।  तो आइये आगे जानते है की फौजी की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है ?       

  • सिपाही                 –    21700
  • लांस नाइक       –    21700
  • नाइक           –    25500
  • हवलदार            –    29200
  • नाइक सूबेदार     –    35400
  • सूबेदार          –    44900
  • सूबेदार मेजर      –    47600
  • लेफ्टिनेंट            –    56100
  • केप्टन            –    61300
  • मेजर             –    69400
  • लेफ्टिनेंट कोलोनेल    –    121000
  • कोलोनेल           –    130600
  • ब्रिगेडियर           –    139600
  • मेजर जनरल         –    144200
  • लेफ्टिनेंट जनरल        –    182200
  • जनरल            –    250000

नोट – सेना के मानदंडों के आधार पर वेतन में वृद्धि की जाती है| एवं सरकार के हिसाब से यह राशि बदलती रहती है।

तीनों सेना के प्रमुख के नाम 2022

जैसा की हम बचपन से पढ़ते आये है हरे देश की रक्षा के लिए तीन तरह की सेनाएँ मौजूद है थल सेना, वायु सेना, और नौ सेना। थल सेना यह होती है जो जमीं पर रह कर देश की सीमाओं की रक्षा करती है और टैंक ट्रक आदि सैन्य वाहनों का उपयोग करती है। वायु सेना नाम से पता चलता है की इस सेना संबंध आसमान से है जो बहुत ही ख़ास और आधुनिक हथियारों से परिपूर्ण होती है। युद्ध के समय आसमान से ही दुश्मन को खत्म करने, उनको स्तिथि की जानकारी जुटान , सेना तक आवश्य्क सामान पहुंचाने जैसे काम वायु सेना के होते है। नौ सेना समुद्र में रह कर देश की रक्षा करती है। ये जहाजों में घूमती है और पनडुब्बियों का उपयोग भी करती है। भारत की सीमाए समुद्र में भी हिन्द महासागर तक फैली हुई है। दुश्मन समुद्र के सहारे भी देश में प्रवेश ना कर सके इस बात का ध्यान नौ सेना रखती है ।

तीनों सेना के प्रमुख के नाम कुछ इस प्रकार है

  • सेना प्रमुख – जनरल मनोज पांडे
  • वायु सेना प्रमुख – एयर प्रमुख मार्शल वीआर चौधरी
  • नौसेना प्रमुख – एडमिरल आर हरि कुमार

विश्व की सबसे ताकतवर सेनाएं

USA

विश्व की सबसे ताकतवर सेना USA के पास है जिसमे सेनिको की संख्या लगभग 14 लाख है। इनकी सेना आधुनिक हथियारों के साथ देश की रक्षा करती है। इनके paas8848 टैंक, 15893 एयरक्राफ्ट और 72 सबमरीन हैं। अमेरिका रक्षा बजट 601 बिलियन डॉलर के आस पास है।

रूस

दुनिया की दूसरी सबसे शक्तिशाली सेना रूस की है , रूस के पास 766000 सैनिक है। फिलहाल हुए रूस और यूक्रेन युद्ध के रूस के सैन्य आकड़ो में काफी परिवर्तन हो चूका है जिस वजह है सटीक जानकारी साझा कर पाना मुश्किल है।

चीन

विश्व की तीसरी ताकतवर सेना चीन की है। चीन अपने देश की सैन्य जानकारी साझा नहीं करता है या फिर करता भी है तो एक्सपर्ट्स का मन्ना है की यह बबल्कुल भी सही नहीं होती है। फिलहाल ऐसा मानना है की सबसे अधिक सैन्यकर्मी चीन के पास ही है।

भारत

भारत के पास 1,444,000 सैनिक है। भारत के पास दुनिया की चौथी सबसे मजबूत सेना है। भारत ने अपनी सेना को तीन प्रकारो में बाट रखा है थल सेना, वायु सेना, और नौ सेना। 127 साल पहले भारतीय थल की स्थापना हुई थी। थल सेना तीनो सेनाओ में प्रमुख होती है। सेन्ना केवल देश की दुश्मनो से ही रक्षा नहीं करती ये बाढ़ भूकंप जैसी आपदाओँ में फसे लोगो की मदद के लिए भी होती है।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment