Kis Khel Ki Utpati Jabalpur Mein Hui Thi – किस खेल की उत्पत्ति जबलपुर में हुई थी?


खेल मानव जीवन का अभिन्न अंग है। यह न केवल मनोरंजन का साधन है अपितु खिलाड़ी को हष्ट-पुष्ट और सेहतमंद रखने में भी सहायता करता है। इससे तनाव भी दूर होता है एवं और भी कई फायदे हैं। जगत में कई सारे खेलों का अविष्कार मानव ने किया है। वैसे ही एक खेल है जिसे अंग्रेजों ने मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में बनाया। इस लेख में हम आपको बताएँगे कि Kis Khel Ki Utpati Jabalpur Mein Hui Thi – किस खेल की उत्पत्ति जबलपुर में हुई थी?

Kis Khel Ki Utpati Jabalpur Mein Hui Thi?

क्या आप जानते हैं, कि पूरी दुनिया में खेले जाने वाले स्नूकर खेल की उत्पत्ति मध्य प्रदेश के जबलपुर शहर में हुई थी| इस खेल को अंग्रेज शासनकाल में अंग्रेज अफसरों द्वारा ही किया गया था|

स्नूकर, लोकप्रिय खेल बिलियर्डस का ही बदला हुआ रूप है| हुआ कुछ ऐसा था, की जबलपुर में यंग मैन क्रिश्चयन एसोसिएशन सोसाइटी बसी हुई थी. जहाँ पर अंग्रेज सेना के बड़े-बड़े अफसर रहते थे| सभी अफसर क्लब में बिलियर्डस खेलने जाते थे| उन्होंने बिलियर्डस में लाल और काले रंग की गेंदों को मिला कर स्नूकर खेलना शुरू किया|

कैसे नाम स्नूकर पड़ा?

एक दिन जब डेवनशायर रेजिमेंट के कर्नल सर नेविल चैम्बर्लन स्नूकर खेल रहे थे और उनके सामने वाले खिलाडी गेंद को पॉकेट में नहीं डाल पाए तो उन्होंने उसे स्नूकर कह कर बुलाया जिसका अर्थ होता है अनुभवहीन खिलाड़ी| इस तरह इस खेल का नाम स्नूकर रखा गया|

क्या होता है स्नूकर खेल-

यह खेल एक 12 फीट × 6 फीट (3.7 मी॰ × 1.8 मीटर) के टेबल पर स्टिक की सहायता से खेला जाता है| जिस पर चारों कोनों पर बड़े होल (पॉट) बने होते हैं| जिनमे स्टिक की सहायता से गेंदों को पहुँचाया जाता है|

इसमें 15 लाल गेंद, एक सफेद गेंद और छह रंगीन गेंद होती है| सबसे पहले लाल गेंदों को पॉट करना होता है, उसके बाद छह रंगीन गेंदों को और फिर से लाल गेंदों को पॉट करना होता है| अंत में जिस खिलाडी के सबसे अधिक अंक होते है उसकी जीत होती है| हर गेंद का अलग अंक होता है, लाल गेंद का एक अंक, पीली गेंद के दो अंक, हरी गेंद के तीन अंक, भूरी गेंद के चार अंक, नीली गेंद के पांच अंक,  गुलाबी गेंद के छह अंक और काली गेंद के सात अंक होते हैं| इस खेल का सबसे रोचक तथ्य यह है, की स्नूकर की सबसे ज्यादा चेम्पियनशिप भारतीयों ने जीती है|

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment