पेड़, पौधों, पानी, पहाड़ में कौन सा अलंकार है?


आज हम आपको एक महत्वपूर्ण प्रश्न का उत्तर बताने वाले है जो परीक्षा की दृष्टि से भी बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है, यह प्रश्न है पेड़, पौधों, पानी, पहाड़ में कौन सा अलंकार है (ped paudhe pani aur pahad mein kaun sa alankar hai) और इसके अलावा हम आपको अलंकार की परिभाषा भी बताएँगे।

अलंकार किसे कहते हैं?

अलंकार का अर्थहै आभूषण। अलंकार का कार्य है कि काव्य की शोभा को बड़ाना। जेसा किहम जानते है कि आभूषण स्त्री की शोभा बढ़ाते है उसी प्रकार अलंकार भी किसी काव्य की शोभा बढ़ाते है। ये वे आभूषण हैं जो काव्य की शोभा बढ़ाते हैं। हिंदी व्याकरण में इनका काफी महत्वपूर्ण स्थान है और अच्छे नंबर आपको अलंकार दिलवा सकते हैं। हमने यहां सरल भाषा में अलंकार का अर्थ समझाने का प्रयास किया है ताकि आप आसनी से इसे समझ पाए।

पेड़ पौधों पानी पहाड़ में कौन सा अलंकार है (ped paudhe pani aur pahad mein kaun sa alankar hai)

पेड़ पौधे पानी पहाड़ में अनुप्रास अलंकार है। अनुप्रास अलंकार में बारें में और अधिक जानने के लिए इस लिख को आखिर तक जरुर पढ़ियेगा।

अनुप्रास अलंकार किसे कहते है?

अनुप्रास शब्द दो शब्दों से मिल कर बना है जहा ‘अनु’ शब्द का अर्थ है- बार- बार तथा ‘प्रास’ शब्द का अर्थ है- वर्ण। अगर आसन भाषा में समझा कहा जाए तो जिस जगह स्वर की समानता के बिना भी वर्णों की बार -बार आवृत्ति होती है, उस जगह अनुप्रास अलंकार होता है। अर्थात अलंकार में एक ही वर्ण का बार -बार प्रयोग किया जाता है।[

उदाहरण

जन रंजन मंजन दनुज मनुज रूप सुर भूप।
विश्व बदर इव धृत उदर जोवत सोवत सूप।।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment