यदि पौधों में प्रकाश संश्लेषण नहीं हो तो क्या होगा?


आज हम जानेंगे की यदि पौधों में प्रकाश संश्लेषण नहीं हो तो क्या होगा? यह जानने से पूर्व चलिए जानते हैं कि प्रकाश संश्लेषण होता क्या है, प्रकाश संश्लेषण में सजीव कोशिकाओं द्वारा प्रकाशीय ऊर्जा रसायनिक ऊर्जा में परिवर्तित की जाती है। जिसे सूर्य के प्रकाश, वायु से कार्बनडाइऑक्साइड व भूमि से जल की उपस्थिति में पौधों द्वारा किया जाता है। जिससे वे खाद्य पदार्थो का निर्माण करते हैं और ऑक्सीजन को पानी से लेकर वायुमंडल में मुक्त कर देते हैं।

यदि पौधों में प्रकाश संश्लेषण नहीं हो तो क्या होगा?

प्रकाश संश्लेषण से पेड़-पौधे अपने भोजन का निर्माण करते हैं और उनके द्वारा बनाये भोजन को तनों द्वारा पूरे पेड़ में भेजा जाता है। प्रकाश संश्लेषण की क्रिया पेड़ के पत्तो में की जाती है और अगर पत्ते भोजन नहीं बना पाएंगे और उनमे प्रकाश संश्लेषण की क्रिया नहीं होगी तो पेड़ मर जाएगा। जिस क्रिया से पत्ते पानी छोड़ते हैं उस सुनेंरोकेंइस क्रिया को ‘संवहन’ (ट्रांसपाइरेशन) कहा जाता है।

सूर्य के प्रकाश से पौधे का कौन सा भाग भोजन बनाता है ?

यह सभी स्वपोषी हरे पौधों में क्लोरोप्लास्ट में पाया जाता है। सूर्य की प्रकाशीय ऊर्जा को क्लोरोफिल के अणु अवशोषित कर रासायनिक ऊर्जा में रूपांतरित कर देते हैं।

प्रकाश की उपस्थिति में विघटित होने वाला पदार्थ कौन सा है?

AgCl को प्रकाश की उपस्थिति में विघटित किया जा सकता है। AgCl अंधेरे में स्थिर होता है पर वह प्रकाश की उपस्थिति में उत्प्रेरित हो जाता है। प्रकाश ऊर्जा के संपर्क में आने से अतिरिक्त इलेक्ट्रान बाहर आ जाता है जो की क्लोरीन आयन से निकला होता है और अंत में यह सिल्वर आयन द्वारा ग्रहण क्र लिए जाता है।

प्रकाशीय अभिक्रिया किसे कहते हैं ?

जब जल अपघटित होकर हाइड्रोजन आयन और इलेक्ट्रॉन बनता है और अंत में ऊर्जा अणु बनाता है तो इस क्रिया को प्रकाशीय अभिक्रिया कहा जाता है।

C4 पौधे क्या है ?

वह पौधे जिनमें Co2 स्थिरीकरण का प्रथम उत्पाद 4-कार्बन यौगिक और ऑक्सैलो-ऐसीटिक अम्ल होते हैं जो की प्रकाश संश्लेषण में अधिक सक्षम होते है उन्हें C4 पौधे कहा जाता है।

वनस्पति शास्त में पेड़ की जड़ों से पत्तों तक पानी पहुंचाने की क्रिया को क्या कहते हैं?

वनस्पति शास्त में पेड़ की जड़ों से पत्तों तक पानी पहुंचाने की क्रिया को कोशिका क्रिया कहा जाता है। पेड़ के तने में जाइलम और फ्लोयम नामक विशेष कोशिकाएँ होती हैं जिससे जड़ों से अवशोषित पानी पत्तियों तक पहुंचाया जाता है।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment