Sunami Ke Teen Karan Kya Hai – सुनामी के तीन कारण क्या है?


जब कोई समुद्री तूफान आता है तो उसे जापानी भाषा में सुनामी कहा जाता है, जिसका अर्थ होता है बंदरगाह के निकट की लहर। लेकिन इस लहर में ऐसा क्या होता है जो इसे अन्य लहरों से अलग बनता है? तो दोस्तों वह है इसका “आकार। दरअसल ये लहरें सैकड़ों किलोमीटर चौड़ाई वाली होती हैं यानी कि लहरों के निचले हिस्सों के बीच का फ़ासला सैकड़ों किलोमीटर का होता है। लेकिन तट के पास आते- आते इन लहरों का निचला हिस्सा ज़मीन को छूने लगता है, जिससे इनकी गति कम हो जाती है और ऊँचाई काफी ज्यादा बढ़ जाती है। तो जब ये तट से टकराती है तो तबाही मचा देती है। इनकी गति 420 किलोमीटर प्रति घण्टा तक और ऊँचाई 10 से 18 मीटर तक होती है। इन्हें देखने में ऐसा लगता है मानो खारे पानी की चलती-फिरती दीवार हो। ये लहरें प्रशान्त महासागर में बहुत आम हैं जबकि बंगाल की खाड़ी, हिन्द महासागर व अरब सागर में लहरे कम ही उठती है। आज हम आपको बताने वाले हैं कि Sunami Ke Teen Karan Kya Hai – सुनामी के तीन कारण क्या है?

Sunami Ke Teen Karan Kya Hai ?

  • सुनामी आने के मुख्य कारण तो भूकंप है इसके अलावा कभी-कभी ज़मीन धंसने, ज्वालामुखी फटने, कोई भारी विस्फोट होने और कभी-कभी आकाशीय पिंडो के गिरने के असर से भी सूनामी लहरें उठती हैं।
  • जब कभी भूकंप आता है तो समुद्र की ऊपरी सतह अचानक खिसक कर आगे बढ़ जाती है ओर समुद्र अपनी सामान्य स्थिति से ऊपर की तरफ बढ़ने लगता है। इससे जो लहरें बनती हैं वो सूनामी लहरें होती हैं।
  • सूनामी लहरें जब भी किसी समुद्री तट से टकराती है तो जान-माल का बुरी तरह नुक़सान कर देती है। जिस तरह भूकंप का पूर्वानुमान लगाना कठिन हिया सकते उसी तरह सुनामी का पूर्वानुमान लगाने की कोई तकनीक अभी तक विकसित नहीं हुई है। 2004 में भारतीय तटों पर आई सुनामी का नाम बॉक्सिंग डे सुनामी रखा गया है।

तो दोस्तों यह थे सुनामी के 3 मुख्य कारण! उम्मीद है अब आपको आपके सवाल Sunami Ke Teen Karan Kya Hai – सुनामी के तीन कारण क्या है? का जवाब मिल ही गया होगा।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment