Bandar Mama Pahan Pajama Lyrics


एक लोकप्रिय गाना बंदर मामा पहन पाजामा बच्चो को बहुत पसंद है, इस गाने में बंदर के स्वभाव को दर्शाया गया है कि बंदर कितने चंचल स्वभाव के होते हैं, यह कितनी मस्ती करते हैं और लोगो को परेशान करते हैं, बंदर बहुत ही ज्यादा उछल कूद करने वाला जानवर है जो इधर से उधर कूदता रहता है और लोगो के हाथ से सामान ले कर भाग जाते हैं इन्हें पकड़ना बहुत न के बराबर है। बच्चो की किताबो में एक कविता है बन्दर मामा पहन पजामा जो काफी प्रचलित है अगर आप इस कविता बन्दर मामा पहन पजामा के लिरिक्स (Bandar Mama Pahan Pajama Lyrics) जानना चाहते हैं तो इस लेख से आपको मदद मिल जाएगी।

Bandar Mama Pahan Pajama Lyrics in Hindi

बन्दर मामा पहन पजामा
दावत खाने आये।
ढीला कुरता, टोपी, जूता
पहन बहुत इतराए।।

रसगुल्ले पर जी ललचाया,
मुँह में रखा गप से।
नरम नरम था, गरम गरम था,
जीभ जल गई लप से।।

बन्दर मामा रोते रोते
वापस घर को आए।
फेंकीं टोपी, फेंका जूता,
रोए और पछताए।।

Bandar Mama Pahan Pajama Lyrics in English

Bandar mama pahan pajama
Dawat khane aye
Dheela kurta topi joota
Pehen bhut itraye

Rasgulle par ji lalchaya
Muh mein rakha gap se
Naram naram tha, Garam garam tha
Jeebh jal gayi lap se

Bandar mama rote rote
Ghar ko wapas aye
Phenki topi, pheka joota
Roye aur pachtaye

कुछ और महत्वपूर्ण लेख

0Shares

Leave a Comment