चरण कमल बंदौ हरिराई में कौन सा अलंकार है – Charan Kamal Bando Hari Rai Mein Alankar


नित नविन जानकारियां प्राप्त करते हुए ज्ञान में वृद्धि करना बहुत ही आवश्यक है। यह एक ऐसी क्रिया है जिसे निरंतर चलते रहना चाहिए। आज इसी प्रकार ज्ञान वृद्धि के लिए आप सर्च करते हुए आये हैं कि चरण कमल बंदौ हरिराई में कौन सा अलंकार है। हम इसका उत्तर आपको आज इस लेख में देंगे।

चरण कमल बंदौ हरिराई किसकी रचना है?

चरण कमल बंदौ हरिराई सूरदास जी की रचना है जिसमें वे अपने प्रभु श्री कृष्ण के पावन चरणों का व्याख्यान कर रहे हैं। सूरदास जी भक्ति काल के एक महान कवि थे एवं प्रभु श्री कृष्ण के अनन्य उपासक थे। उन्हें हिंदी साहित्य का सूर्य एवं ब्रज भाषा के श्रेष्ठ कवि माना जाता है।

प्रश्न –

चरण कमल बंदौ हरिराई में कौन सा अलंकार है?

उत्तर – रूपक अलंकार

Question – Charan Kamal Bando Hari Rai Mein Kaun sa Alankar Hai
Answer – Rupak Alankar

चरन कमल बंदौ हरि राइ।
जाकी कृपा पंगु गिरि लंघै, अंधे कौ सब कुछ दरसाइ॥
बहिरौ सुनै, गूँग पुनि बोलै, रंक चलै सिर छत्र धराइ।
सूरदास स्वामी करूनामय, बार – बार बंदौं तिहिं पाइ॥

चरण कमल बंदौ हरिराई की व्याख्या (अर्थ)

इन पंक्तियों के द्वारा सूरदास जी ने अपने प्रभु श्री कृष्ण के पावन कमल रूपी चरणों का गुणगान करते हुए लिखा है, मेरे प्रभु श्री कृष्ण ऐसे हैं जिनकी कृपा हो जाये तो लंगड़ा व्यक्ति भी पर्वत को लांघ जाता है, अंधे व्यक्ति को दिखाई देने लगता है, बहरा सुनने लगता है, गंगा फिर से बोल उठता है और भिखारी के सर पर भी छत्र आ जाता है अर्थात एक भिखारी भी राजा बन सकता है। सूरदास के स्वामी बहुत ही करुणामयी हैं एवं बार-बार मैं उनके चरणों में शीष नमाता हूँ।

इस प्रकार की और जानकारियां एवं दैनिक नित नयी ज्ञान भरी बातें सिखने हेतु हमारी साइट को बुकमार्क करें।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment