बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध – Beti Bachao Beti Padhao Essay


आज का हमारा यह लेख बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर आधारित है, इस लेख में हम बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध प्रस्तुत करने वाले हैं।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध

प्रस्तावना

लडकियाँ भी लडको के बराबर होती हैं उन्हें बस मौका और सहयोग मिलना चाहिए, जो ऐसा सोचते है कि लडकियाँ कुछ नही कर सकती हैं उन्हें अपनी सोच में परिवर्तन करना होगा। अगर लड़कियां नही होगी तो यह संसार चल ही नही सकेगा उन्हें भी महत्व देने की जरूरत है, वर्तमान के समय में लडकियाँ लड़को से कंधा मिलकर कर चल रही है अपने माता पिता एवं देश का नाम रोशन कर रही है। बेटियों में बहुत काबिलियत होती है बस उन्हें अवसर की आवश्यकता होती है। बेटा और बेटी में चल रहे भेदभाव को खत्म करने का समय आ गया है, लड़कियों के साथ हो रहे भेदभाव के कारण उन्हें भ्रूण हत्या जैसी घटनाओं का समाना करन पड़ रहा है और देश में लिंगानुपात गड़बड़ा  रहा है।

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता जैसे मंत्रो की बात करने वाले देश में बेटियों के साथ हो रहे भेदभाव को खत्म करने के उद्देश्य से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का प्रारम्भ किया गया है। यहां लड़कियों को पूर्ण शिक्षा भी नही दी जाती है और उनका विवाह कर दिया जाता है या उनकी शिक्षा को रोक दिया जाता है यह बहुत ही दयनीय स्थिति है इसे खत्म करने और देश के विकास में महिलाओं के योगदान को बढ़ाने के उद्देश्य से ही इस योजना का प्रारम्भ किया गया है। इस योजना के तहत बेटियों की शिक्षा के लिए उचित व्यवस्था की गई है, लोगो को यह समझाया जा रहा है कि लड़का और लड़की में ज्यादा अंतर नही है। सभी को समान अधिकार प्राप्त है और लड़कियों को भी अपना जीवन अपने हिसाब से जीने की स्वतंत्रता है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ,स्वास्थ्यमंत्रालय, परिवार कल्याण मंत्रालय एवं मानव संसाधन विकास के सयुक्त हो कर प्रारम्भ की जाने वाली योजना है, इस योजना की शुरुआत 22 जनवरी 2015 को की गई थी। इस योजना का शुभारम्भ हरियाणा राज्य के पानीपत शहर में हुआ था।

क्यों आवश्यक है यह योजना

बेटी को पराया धन मानने वाली मानसिकता देश में ज्यादा ना फेले और लोग लड़का व लड़की में भेदभाव को खत्म कर सकें इसीलिए इस योजना की आवश्यकता है। लडकियों की शिक्षा और उनके घटते अनुपात जैसी समस्याओं के समाधान के रूप में इस योजना का प्रारम्भ किया गया है। इस योजना के माध्यम से लोगो की मानसिकता को परिवर्तित करने का प्रयास जारी है और समाज तक बेटीयो के लिए आवश्यक सुविधाएँ पहुचाई जा रही है। यदि लोग इसी प्रकार भेदभाव करते रहे हैं तो समाज में लड़कियां कभी भी अपने हक़ और स्वतंत्रता की बात नही कर सकेगी और उन्हें एक पिंजरे में केद पक्षी की तरह जीवन व्यतीत करना पड़ेगा। हमारा समाज बेटे को कुल की परम्परा बढ़ाने वाला व बुढ़ापे का सहारा मानते है. इसी कारण बेटी का पालना पोषना, पढ़ाना लिखाना आदि बेवजह लगता है। लड़कियों पर कई प्रकार की पाबन्दिया होती है जिस कारण उनके विकास में रुकावट पैदा करती है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का उद्देश्य

अशिक्षा सबसे बड़ा अभिश्राप है अशिक्षित समाज कभी भी देश के विकास में सम्पूर्ण रूप से योगदान नही दे सकता है, जैसा कि हम जानते हैं कि भारत में अधिकांश जगह लड़कियों को बोज माना जाता है जिस कारण उन्हें मुलभुत सुविधाए और शिक्षा से वंछित रखा जाता है, यहा तक की कुछ लोग गर्भ मे ही लिंगपरिक्षण कर लड़की होने पर भ्रूण हत्या करवा देते हैं। लोगो की मानसिकता बदलने और लडको व लडकियों में हो रहे भेदभाव को ख़त्म करने तथा महिलाओं को शिक्षित बनाने तथा लिंगानुपात में बढ़ता अंतर को कम करने के उद्देश्य से इस योजना का प्रारम्भ किया गया है। लिंगानुपात में बढ़ता अंतर समाज को वैवाहिक जीवन से सम्बन्धित समस्याओं की एक गहरी खाई में थकेल सकता है इसीलिए समय रहते लोगो का समझना बेहद जरुरी है। सरकार ने यह घोषणा की है कि लड़कियों के लिए शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य और कौशल विकास के कार्यक्रमों में मिडिया के माध्यम से हर तरह से प्रोत्साहित किया जाएगा. संविधान के माध्यम से लिंगाधार पर किसी भी प्रकार का भेदभाव नही किया जाएगा. साथ ही लिंग परीक्षण प्रतिबंधित किया जाएगा।

उपसंहार –

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के द्वारा लड़कियों की संख्या में संतुलन, सुरक्षा, शिक्षा, व्यक्तिगत विकास आदि पर कार्य किया जा रहा है। इस सकारात्मक पहल से पहले के मुकाबले आज के समय में लड़कियों के जीवन में काफी बदलाव आ जाएगा, वेसे ही देश में महिलाऐं अपराध और गलत प्रथाओं की शिकार होती आई है। इस योजना के तहत पूरे देश में लिंग भेदभाव को खत्म करने तथा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत बेटियों को आर्थिक और सामाजिक स्वतंत्र दिलाने का लक्ष्य है।

FAQs

प्रश्न – भारत में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान किस के शासन काल में शुरू हुआ?

उत्तर – श्री नरेंद्र मोदी जी

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment