रबी एवं खरीफ की फसलों में कोई दो अंतर लिखिए?


आज हम फसलो के बारे में बात करने वाले है। फसलो को दो भागो में विभाजित किया गया है जो है रबी एवं खरीफ की फसल। और साथ ही यह भी जानेगे कि रबी एवं खरीफ की फसल में क्या क्या अंतर होते है? अधिकतर विद्यार्थियों से परीक्षा में यह प्रश्न पूछा जाता है कि रबी एवं खरीफ की फसलों में कोई दो अंतर लिखिए? इसका उत्तर भी आपको इस पोस्ट में मिल जाएगा।

खरीफ फसल किसे कहते हैं?

खरीफ की फसल मानसून के समय प्रारम्भ होती है तथा मानसून के खत्म होते होते इसकी कटाई भी की जाने लगती है। इसीलिए इसे मॉनसूनी फसल भी कहा जाता है। यह पूर्ण रूप से वर्षा पर आधारित फसल है। यह फसल जून, जुलाई में शुरू हो जाती है और अक्टूबर से नवंबर के बीच में ये तैयार हो जाती हैं।

खरीफ की फसल के उदाहरण

धान (चावल) मक्का ज्वार बाजरा मूँग मूँगफली गन्ना सोयाबीन आदि खरीफ की फसले है।

रबी फसल क्या है?

रबी की फसल शर्दी के मोसम में उगाई जाती है। इनकी बुआई अक्टूबर नवंबर में की जाती है। मानसून के ख़त्म होते ही रबी की फसल को बोना प्रारम्भ किया जाता है। रबी की फसल मार्च अप्रैल में तैयार हो जाती हैं और इनकी कटाई प्रारम्भ होने लगती है। इन फसलो को पानी थोड़ी कम जरूरत होती है। ठण्ड का मोसम इन फसलो के लिए उपयुक्त होता है।

रबी की फसल के उदाहरण

चना, मसूर, अलसी, गेहूँ, जौ,आलू, मटर व सरसों रबी की मुख्य फसलें हैं।

रबी एवं खरीफ की फसलों में कोई दो अंतर लिखिए?

  • खरीफ फसलों की बुवाई मॉनसून के प्रारम्भ होने के साथ चालू होती है परन्तु रबी की फसलों की बुवाई मॉनसून ख़त्म होने के बाद शुरु में होती है।
  • खरीफ फसलों को मॉनसूनी फसलें कहा जाता है तथा रबी फसलों को ठंडी की फसल भी कहा जाता है।
  • खरीफ फसलों की खेती में ज्यादा मात्रा में पानी की जरूरत होती है तथा रबी फसल में कम पानी की आवश्यकता होती है।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment