रावण का जन्म कब और कहां हुआ था?


आज के लेख में आप जानेंगे कि रावण का जन्म कब और कहां हुआ था?

रावण के पिता ब्राह्मण तथा माता राक्षसनी थी। रावण ने कई वर्षो तक लंका पर राज किया था। यह एक महाप्रतापी, शास्त्रों का प्रखर ज्ञाता, महापराक्रमी योद्धा, प्रकान्ड विद्वान व शिव भक्त था। परन्तु अभिमान की वजह से रावण का अंत हुआ था उसे अपनी शक्तियों का घमंड था जिस कारण वो सत्य से ही युद्ध करने निकल पड़ा था जिस कारण उसका अंत निश्चित था। रावण ने भगवान राम की पत्नी का अपहरण कर लिया था और किसी के भी कहने पर वह उन्हें स्वतंत्र नही कर रहा था जिस कारण राम और रावण का युद्ध हुआ था जिसमे रावण की हार हुई थी और भगवान राम ने विजय प्राप्त की थी इसीलिए कहा जाता है की कभी अपनी शक्तियों का घमंड नही करना चाहिए वरना बुरे परिमाण भुगतने पड़ते है। हिन्दू धर्म काफी पुराना है इसमें अनेक भगवानो की पूजा आराधना की जाती है उसी प्रकार भगवान विष्णु के अवतार राम जी को भी पूजा जाता है जिन्होंने बुराई तथा घमंड के प्रतीक रावण का अंत किया था।

रावण का जन्म कब और कहां हुआ था?

रावण के पिता का नाम विश्रवा था जो बिसरख के निवासी थे, इसी गावं में रावण का जन्म हुआ था जो वर्तमान में उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर में ग्रेटर नोएडा से करीबन 15 किमी दूर बसा हुआ है। रावण का जन्म त्रेता युग में हुआ था और रावण की मृत्यु आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को हुई थी।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment