Antriksh Mein Sabse Pahle Kaun Gaya Tha ? – अंतरिक्ष में सबसे पहले कौन गया था ?


नमस्कार दोस्तों, आज हम अंतरिक्ष के बारे में बात करने वाले है। आज विज्ञान केवल जमीन तक ही सीमित नहीं रह गया है, हम आसमन की ऊचाइंयों को भी पार कर अंतरिक्ष तक पहुंच चुके है। अंतरिक्ष के बारे में पढ़ना और अंतरिक्ष से जुडी बाते सुनना बहुत से लोगो को पसंद होता है । अंतरिक्ष एक ऐसी विचित्र जगह है जहा धरती के नियम काम नहीं करते है इसलिए अंतरिक्ष से जुड़े तथ्यों को पढ़ाने और सुनने में काफी आनंद आता है। आज कल अंतरिक्ष से जुड़े शोध भी काफी किये जा रहे है । बड़ी बड़ी स्पेस कंपनीया रोज ही कुछ ना कुछ अंतरिक्ष से जुडी शोध की जानकारिया देती रहती है। अगर आप को भी अंतरिक्ष में रूचि है और आप अंतरिक्ष से जुड़े प्रश्नो के उत्तर खोज रहे है जो इस आर्टिकल में आपको बहुत से जवाब मिल जाएंगे। जैसे अंतरिक्ष में सबसे पहले कौन गया था ? ( Antriksh Mein Sabse Pahle Kaun Gaya Tha ) और भी बहुत से जिन्हे पढ़ कर आपको अंतरिक्ष से जुडी बहुत सी जानकारी मिल जाएगी।

Antriksh Mein Sabse Pahle Kaun Gaya Tha ? – अंतरिक्ष में सबसे पहले कौन गया था ?

अंतरिक्ष में जाने वाले पहले इंसान का नाम यूरी गगारिन है। इनका जन्म 9 मार्च 1934 ( क्लूशीनो, रूस, सोवियत संघ ) को हुआ था। यह व्यवसाय से एक पाइलेट थे। यह 12 अप्रैल 1961 को अंतरिक्ष में गए थे। इन्होने अंतरिक्ष में पुरे 1 घंटा, 57 मिनट बिताए थे। इन्हे कई खिताबों से भी सम्मानित किया जा चूका है, जैसे हीरो ऑफ़ द सोवियत यूनियन। गागरिन ने इस खतरनाक मिशन को स्वीकार किया और उसे पूरा भी किया। अंतरिक्ष में पहुंचने के बाद यूरी गागरिन के शब्द कुछ यु थे “दुनिया से बहुत दूर, यहां मैं एक टिन के डिब्बे में बैठा हूं. पृथ्वी का रंग नीला है और यहां कुछ भी नहीं जो मैं कर सकूं.”
अमेरिका चाहता था की अंतरिक्ष में जाने वाला पहला व्यक्ति उनके देश का हो पर सोवियत संध ने यहां बाजी मार ली और अमेरिका को यहाँ बहुत बड़ी हार महसूस करनी पड़ी थी।

अंतरिक्ष और विज्ञान

विज्ञान ने हमे बहुत कुछ दिया जो हमारा जीवन सरल और सुखद बनाते है पर साथ ही विज्ञान की मदद से हम अंतरिक्ष में पहुंचने में सफल हुए है और अंतरिक्ष से जुडी जानकरियाँ अब थोड़ी आसानी से जुटा पा रहे है। अंतरिक्ष में जाने वाला पहला इंसान तो सोवियत संघ का परन्तु अमेरिका भी Space के मामले में बहुत तरक्की कर रहा है उसका यह सपना तो पूरा नहीं हुआ की अंतरिक्ष में जाने वाला व्यक्ति अमेरिकन हो पर उन्होंने कड़ी मेहनत कर चाँद पर सबसे पहले अपने देश के व्यक्ति को पंहुचाया था। नील एल्डन आर्मस्ट्रांग चाँद पर जाने वाले पहले मनुष्य थे जो एक अमेरिकी भी थे । आधुनिक रॉकेट और सॅटॅलाइट हमे अंतरिक्ष से जुड़ने में काफी मदद कर रहे है साथ हम इनके उपयोग भी बखूबी कर रहे है जैसे कम्युनिकेशन के लिए आज कल सैटेलाइट्स का उपयोग हो रहा और अंतरिक्ष में जाने के लिए आधुनिक रॉकेट्स भी उपलब्ध है। अब हमारे वैज्ञानिको का मानना है की हमें मंगल ग्रह पाकर रहने की आवस्य्क्ता हो सकती है इस लिए वैज्ञानिक मंगल तकसुखद तरिके से पहुंचने और वहा कॉलोनी बनाने की योजना पर काम कर रहे है।

अंतरिक्ष में जाने वाला पहला भारतीय

अंतरिक्ष के संबंध में अगर बात करे तो भारत प्राचीन काल से ही अंतरिक्ष के बारे बहुत सी जानकारिया जुटा चूका है। आज भी ISRO (स्पेस एजेंसी ) लगातार अंतरिक्ष से जुड़े शोध करती रहती है। भारत सरकार भी इसके लिए काफी मदद करती है क्योकि दुनिया से कदम से कदम मिला कर चलना बहुत ही जरुरी है।
02 अप्रैल, 1984 को राकेश शर्मा अंतरिक्ष में जाने वाले पहले भारतीय बने थे। उनकी यह उपलब्धि भारत के लिए बहुत बड़ी थी। इनका जन्म पंजाब के पटियाला में 13 जनवरी 1949 को एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। उनकी कादि मेहनत और लगन हर उस इंसान के लिए एक प्रेरणा जो अंतरिक्ष में रूचि रखता है।

अंतरिक्ष जाने वाला प्रथम जानवर

अंतरिक्ष में जो पहला जानवर गया था एक कुत्ता था जिसका नाम लाइका था। आपको जानकार जरूर हैरानी होगी की अंतरिक्ष में केवल इंसान ही नहीं जानवर जा चूका है। अंतरिक्ष में जो कुत्ता सर्वप्रथम गया था वो एक मादा कुतिया थी जिसकी नस्ल मोंगरेल थी जिसका जन्म १९५४ को मास्को, सोवियत संघ में हुआ था। इसकी मृत्यु का कारण तो पूरी तरह से स्पष्ट तो नहीं है पर ऐसा कहा जाता है की यान में ओवर्हीटिंग की वजह से इसकी मृत्यु हुई थी।

विश्व के Top 7 स्पेस एजेंसी

  • ISRO – Indian Space Research Organisation
  • NASA – the National Aeronautics and Space Administration ( America )
  • RFSA – Russian Federation Space Agency
  • ESA – European Space Agency
  • CNSA – China National Space Administration
  • JAXA – Japan Aerospace Exploration Agency
  • SSI – Space Studies Institute in California

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment