अवटु ग्रंथि को थायरोक्सिन हार्मोन बनाने के लिए क्या आवश्यक है?


मानव के शरीर में पायी जाने वाली सबसे बड़ी अंत:स्रावी ग्रंथियों में से एक अवटु अर्थात थाइरॉयड है। यह अपने गले में उपस्थित स्वरयंत्र के नीचे द्विपिण्ड़क वलयाकार रूप में होती हैं। अवटु ग्रंथि का काम शरीर में थायरॉकि्सन (T4), ट्राइ-आयडोथाइरोनीन (T3) और थाइरोकैल्सिटोनीन नामक हार्मोन को स्रावित करना होता हैं। जो शरीर में होने वाले ऊर्जा के क्षय, प्रोटीन उत्पादन और अन्य हार्मोन के प्रति होने वाली संवेदनशीलता को नियंत्रित करने में सहायक होते हैं। ये हार्मोन चयापचय की दर और कई अन्य शारीरिक तंत्रों के विकास और उनके कार्यों की दर को भी प्रभावित करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अवटु ग्रंथि को थायरोक्सिन हार्मोन बनाने के लिए क्या आवश्यक है? जिससे हम हमारे शरीर में होने वाली ऊर्जा की कमी और अपने शरीर में हार्मोन को नियंत्रित कर सके? तो चलिए आज इसी का उत्तर हम आपको देते हैं।

अवटु ग्रंथि को थायरोक्सिन हार्मोन बनाने के लिए आवश्यक है

अवटु ग्रंथि को थायरोक्सिन हार्मोन बनाने के लिए आयोडीन की आवश्यकता होती है जो कि Triiodothyronine (T3) और Thyroxine (T4) दोनों का एक आवश्यक घटक है। हमारे शरीर में आयोडीन की जरूरत बहुत काम मात्रा में होती हैं। सभी मनुष्यों को आयोडीन समुद्री स्त्रोतों से मिल जाता हैं।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

1Shares

Leave a Comment