मनुष्य के दिमाग का वजन कितना होता है?


मनुष्य के शरीर का सबसे मुख्य भाग उसका मस्तिष्क होता है। यह हमारे शरीर के सभी अंगो का संचालन भी करता है। दिमाग ही हमे चीजे याद रखने किसी भी काम को करने तथा सिखने की शक्ति प्रदान करता है। दिमाग की संरचना बहुत ही जटिल होती है यह बहुत सी कोशिकाओ और तंत्रिकाओ से मिल कर बना हुआ होता है। दिमाग चार भागो में बटा हुआ होता है। बहुत से लोगो को यह जानने की इच्छा होती है कि इंसान के दिमाग का वजन कितना होता है? आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि मनुष्य के दिमाग का वजन कितना होता है?

मनुष्य के दिमाग का वजन कितना होता है?

एक स्वस्थ मनुष्य के दिमाग का वजन 1200 – 1400 ग्राम होता है यानिकी औसत मस्तिष्क भार 1336 ग्राम होता है। एक युवा महिला के मस्तिष्क का वजन ओसतन 1198 ग्राम तक होता है। 65 वर्ष की उम्र के बाद दिमाग का वजन घटने लगता है वृद्धावस्था में मस्तिष्क का भार ओसतन 1300 ग्राम होता है।

मानव शरीर का सबसे ज्यादा चर्बी वाला अंग दिमाग ही होता है। हमारे दिमाग के लिए ऑक्सीजन बहुत जरुरी होती है। अगर हमारे दिमाग को 5 से 10 मिनट तक इसे ऑक्सीजन ना मिले तो दिमाग डैमेज हो सकता है। हमारे दिमाग का 75% से अधिक भाग पानी का बना होता है। मानव के दिमाग में दर्द की कोई नस नहीं होती है इसलिए दिमाग को किसी भी तरह के दर्द का पता नहीं चलता है। हमारा दिमाग 5 साल की उम्र तक 95% बढ़ता है और 18 साल की उम्र तक आते-आते 100% विकसित हो जाता है। इसके बाद दिमाग का बढ़ना रुक जाता है।जागते समय मनुष्य का दिमाग 10 वाट की ऊर्जा के बराबर शक्ति प्रदान करता है।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment