विद्युत बल्ब में निष्क्रिय गैस क्यों भरी जाती है?


इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि विद्युत बल्ब में निष्क्रिय गैस क्यों भरी जाती है?

विद्युत बल्ब में निष्क्रिय गैस क्यों भरी जाती है?

विद्युत बल्ब में निष्क्रिय गैस भरी जाती है जिसके लिए खासकर ऑर्गन गैस का उपयोग किया गया है, इसे इनर्ट गैस भी कहते हैं। इनर्ट आटम उन्हें कहते है जिनका आउटरमोस्ट ऑरबिट सॅचुरेटेड होता है, यह किसी भी तत्व के सम्पर्क में आने पर भी कोई प्रतिक्रिया नही देते हैं।

बल्ब में टंगस्टोन धातु होती है जो लगभग 2000 से 3000 डिग्री सेल्सियस पर जल कर उजाला प्रदान करता है। पर अगर बल्ब में यह गैस नही भरी जाए तो बल्ब में मोजूद टंगस्टोन ऑक्सिजन से प्रतिक्रिया करके ऑक्साइड का निर्माण करने लगेगा और टंगस्टोन ऑक्साइड विद्युत का कुचालक है जिस कारण वो ज्यादा देर तक उजाला नही दे सकेगा।बल्ब में ऑर्गन गैस भरी होने के कारण टंगस्टोन किसी भी प्रकार की रासायनिक प्रतिक्रिया नहीं कर पाता है जिसके फलस्वरूप वह बिजली से गर्म होकर उजाला प्रदान करता रहता है।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment