आसमान नीला क्यों है – Aasman Neela Kyon Hota Hai?


हमारी धरती की सतह से ऊपर देखने पर हमें आसमान नीला दिखाई पड़ता है। जो कुछ भी धरती की सतह से ऊपर स्थित है वह आसमान कहलाता है। इसमें वायुमंडल और बाहरी अंतरिक्ष मंडल होते हैं। जब आसमान पर बदल छाये हों तब बादल सफ़ेद, काले, भूरे, ऑरेंज आदि कलर में दिखाई पड़ते हैं मगर आसमान नीला क्यों है? हमें क्यों आसमान नीला दिखाई देता है? Aasman Neela Kyon Hota Hai? चलिए आज इसी पर चर्चा करते हैं व आपको इसका जवाब देते हैं।

आसमान नीला क्यों है ?

Why is Sky Blue in Hindi: आसमान के नीले दिखने का मुख्य कारण इसका वायुमंडल है। हमारे आसमान में कई सूक्ष्म पदार्थ हैं। आसमान का नीला दिखाई देने में सूर्य और वायुमंडल दोनों का ही मुख्य योगदान है। वायुमंडल में कई प्रकार की विभिन्न गैसें होती हैं और इसमें कई कण होते हैं। जब सूरज का प्रकाश इस वायुमंडल से होकर गुजरता है तो आसमान में पाए जाने वाले वायुकणों के कारण यह प्रकाश आर पार हो जाता है या फिर बिखर जाता है। जब इसका प्रकाश बिखरता है तो यह बैगनी, आसमानी और नीला रंग सबसे ज़्यादा परिवर्तित करता है जिस कारण आसमान नीला दिखाई देता है।

सूरज के प्रकाश में अगर देखा जाये तो बैगनी, आसमानी, नीला, हरा, पीला, नारंगी और लाल रंग पाए जाते हैं। इतने रंग होने के बाद भी हमे आसमान नीला दिखाई पड़ता है जो की वायुमंडल में धूल और कणों के कारण है। वायुमंडल के धूल और कणों से जब यह सूर्य का प्रकाश निकलता है तो नीला दिखने का मुख्य कारण यह है कि नीले रंग की वेवलैंथ बहुत कम होती है जिस कारण यह पूरे वायुमंडल में बिखर जाता है और पूरा आसमान नीला दिखाई पड़ता है।

अगर वायुमंडल के कण न हो तो हमें आसमान शायद काला दिखाई पड़ेगा। इसके उदाहण सहित अगर आप देखना चाहे तो अंतरिक्ष में वायमंडल का अभाव है वहाँ पर आपको सभी स्थानों पर आसमान काला दिखाई देगा।

कुछ लोगों को लगता है कि जिस प्रकार हमें आसमान पृथ्वी से नीला दिखाई पड़ता है उसी प्रकार अंतरिक्ष से भी पृथ्वी के नीले दिखने का कारण यही है परन्तु ऐसा नहीं है। पृथ्वी के अंतरिक्ष से नीले दिखने का कारण पृथ्वी का वातावरण नहीं बल्कि समुद्र है। पृथ्वी का 70 प्रतिशत भाग समुद्र से ढका हुआ है जिस कारण यह अंतिक्ष से नीली दिखाई देती है।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

1Shares

Leave a Comment