सच्चे प्यार में रुला देने वाली शायरी


आज हम आपके लिए लाये हैं सच्चे प्यार में रुला देने वाली शायरी का भंडार। अगर आपने किसी से प्यार किया है और वह शख्स आपको धोका दे दें तो आपका दिल इस कदर टूट जाता है कि आपकी आखों में आसूं आ जाते हैं। दिल का टूटना बहुत ही बुरा होता है जिसका दिल टूटता है केवल वही उसकी भावनाओ को समझ पाता है। बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड में अकसर झगड़े होते रहते हैं पर कई बार बात इतनी बड़ जाती है कि वो रिश्ता ही खत्म हो जाता है और सच्चा प्यार करने वाला इन्सान पूरी तरह से हताश और दुखी हो जाता है। अगर आपको शायरीया पसंद है तो हम आपके लिए लाये हैं सच्चे प्यार में रुला देने वाली शायरियां जिन्हें पढ़ कर आपको रोना तक आ सकता है। सच्चा प्यार होता ही इतना गंभीर है कि इसमें रिश्ता टूटने पर बहुत ही ज्यादा दुःख महसूस होता है।

सच्चे प्यार में रुला देने वाली शायरी

मेरे अधूरे किस्से का मुझे हिसाब चाहिए,
मैं सही था या गलत मुझे जवाब चाहिए।

तुझ से मोहब्बत तो अब मुझे ता उम्र होगी..
दुनिया में इंतजार की अब नई मिसाल बनेगी।

हम तो तेरे दिल की महफ़िल सजाने आये थे
तेरी कसम तुजे अपना बनाने आये थे
किस बातकी सजा दी तूने हमको
हम तो तेरे दर्द को अपना बनाने आये थे

तलाश दिल को बस सुकून की होती है
रिश्तों के नाम चाहे जो हों
और इस दिल को सुकून तेरे पास होने से मिलता है।

एहसास की शिद्दत को बढ़ाया नहीं करते
अपने आशिक को इस कदर सताया नहीं करते
अगर तुझे मोहब्बत नहीं है तो साफ कर दे
सच्चा प्यार करने वालों को तड़पाना नहीं होती

जिसको आज मुझमे 
हजारो गलतिया नजर आती हैं 
कभी उसी ने कहा था 
तुम जैसे भी हो मेरे हो 

जाने उस शख्स को कैसे ये हुनर आता है
रात होती है तो आँखों में उतर आता है
मैं उस के खयालो से बच के कहाँ जाऊं
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आता है

बहुत चाहा उसको जिसे हम पा न सके,
ख्यालों में किसी और को ला न सके,
उसको देख के आंसू तो पोंछ लिए,
लेकिन किसी और को देख के मुस्कुरा न सके

ये ठंडी हवा का झोका
फिर तेरी याद दिला गया
बड़ी मुश्किल से भूला था मैं तुम्हे पर
तेरे प्यार के दर्द ने मुझे फिर रुला दिया..!

तुम्हे लगता था कि मैं जानता कुछ भी नहीं,
मुझे पता था की रास्ता बदल रहे हो तुम !

वो भी क्या जिद थी जो तेरे मेरे बीच एक हद थी
मुलाक़ात मुकम्मल ना सही मोहब्बत बेहद थी

वो कह कह कर थक गए हमें भूल जाने को
पर मुझे उनकी यादें सोने कहाँ देती है,
मैं कोशिस करता हु उन्हें भूल जाने की
पर मोहब्बत उनकी ऐसा होने कहाँ देती है।

हाथों की लकीरें पढ़ के रो देता है मेरा दिल, 
सब कुछ तो है मगर एक तेरा नाम क्यूँ नहीं है। 

जो नजरो का हुआ मिलना लब तेरे भी मुस्कुराये थे
ईश्क के हर जूर्म में मेरे तेरी मोहोब्बत के साये थे
मेरी हर रात में सजनी तेरी सेजो के साये थे
रात को ख्वाब में मेरे ख्वाब तेरे मिलने आये थे

बेताब से रहते हैं उसकी याद में अक्सर,
रात भर नहीं सोते हैं उसकी याद में अक्सर,
जिस्म में दर्द का बहाना सा बना कर,
हम टूट कर रोते हैं उसकी याद में अक्सर

हम तो तेरे दिल की महफ़िल सजाने आये थे
तेरी कसम तुजे अपना बनाने आये थे
किस बात की सजा दी तूने हमको
हम तो तेरे दर्द को अपना बनाने आये थे

अब पूछते नहीं वो हाले दिल हमारा,
लगता है जरूरते पूरी हो गयी है उनकी

सोचता हु तुझे हर नजर से बचा लूँ,
कोई चुरा न ले तुझे मुझसे इसलिए तुझे अपनी धड़कनों में छुपा लू।

करीब आने की ख्वाहिशें तो बहुत थी मगर 
करीब आकर पता चला की मुहब्बत तो फासलों में है 

कुछ इस तरह मैंने ज़िन्दगी को आसां कर लिया
किसी से माफ़ी मांग ली किसी को माफ़ कर दिया

बिना मंजिल के जीना आसान होता है
ज़िन्दगी में हर कोई परेशां होता हे
सपनो से समझौता करने वालो को कुछ नहीं मिलता
जो लड़ते हे अपनी परेशानियों से उन्ही के
क़दमों में जहान होता हे

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment