सस्पेंड और बर्खास्त में क्या अंतर है? Suspend vs Dismiss


जब हम नौकरी करते हैं या उसके बारे में जानते हैं तो कई ऐसे शब्द आते हैं जिनको हम ठीक से समझ नहीं पाते या फिर कंफ्यूज हो जाते हैं कि इस शब्द का अर्थ क्या होता होगा? ऐसे ही 2 टर्म्स हैं जो कॉर्पोरेट जगत में इस्तेमाल होते हैं। ससपेंड और बर्खास्त! आखिर ये क्या होते हैं? सबसे पहले आपको बता दे के सस्पेंड (Suspend) का अर्थ होता है निलंबित और बर्खास्त का अर्थ होता है डिसमिस (Dismiss), कईं लोग यह समझते हैं कि सस्पेंड करना मतलब नौकरी से निकाल देना परन्तु ऐसा नहीं है। आज हम संक्षिप्त में जानेंगे कि सस्पेंड और बर्खास्त में क्या अंतर है?

सस्पेंड और बर्खास्त में क्या अंतर है?

हम आज आपको सस्पेंड और बर्खास्त का अंतर बताने वाले हैं इसके अर्थ से ही आप स्वयं समझ जाएंगे कि इन दोनों में क्या अंतर है?

निलंबित या ससपेंड का अर्थ

किसी भी कर्मचारी के निलंबित होने पर उसे वह नौकरी फिर से प्राप्त हो सकती है। निलंबित करने का अर्थ नौकरी से हटाना नहीं बल्कि कुछ समय के लिए नौकरी से निकाल देना होता है जो कि उस कर्मचारी पर लगे किसी आरोप के कारण किया जाता है। कुछ समय के लिए किसी कर्मचारी को निकालने की इस क्रिया को निलंबित करना या सस्पेंड करना कहते है।

यह भी पढ़ें: सस्पेंड होने पर कितना वेतन मिलता है?

बर्खास्त या डिसमिस का अर्थ

जब कोई कर्मचारी डिसमिस किया जाता है तो उसे निलंबन की तरह आधा वेतन नहीं मिलता है। बर्खास्त किये कर्मचारी को पी.एफ. भी नहीं दिया जाता, उसे सिर्फ ग्रेजुएटी ही मिलती है। किसी भी कर्मचारी को बर्खास्त करने का अधिकार उस डिपार्टमेंट के सबसे बड़े अधिकारी को होता है। बर्खास्त का सीधा सीधा तात्पर्य है कि उसे नौकरी से सीधा निकाल दिया गया है।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

1Shares

Leave a Comment