धार्मिक अधिकार से आप क्या समझते हैं?


आज का प्रश्न है धार्मिक अधिकार से आप क्या समझते हैं ?दुनिया मे बहुत से धर्म मौजूद है, इन धर्मो को मानने वाले अपनी मान्यताओं के अनुसार आने धर्मो का अलग अलग तरीको से पालन करते है।

धार्मिक अधिकार से आप क्या समझते हैं

अनुच्छेद 25, 26, 27 ओर 28 के अनुसार हर किसी को धार्मिक स्वतन्त्रा का अधिकार प्राप्त है। धार्मिक स्वतन्त्रा मा अर्थ है कि हर कोई अपनी इच्छा के अनुसार किसी भी धर्म को मान सकता है, अपने धर्म के प्रचार कर सकता है। अपने धर्मिक स्थान की स्थापना कर पूजा पाठ कर सकता है आदि। भारत देश मे भी अनेक धर्मो को मानने वाले लोग मौजूद है जो अलग अलग प्रकार की पूजा पद्धति के अनुसार भगवानो की पूजा करते है। हर धर्म मे अलग अलग प्रकार की मान्यता और पूजा पद्धतिया होती है । किसी धर्म मे केवल एक शक्ति को संसार का रचयिता मान कर उनकी आराधना की जाती है ओर किसी धर्म मे 1 से अधिक भगवानो को पूजा जाता है। हर कोई अपनी इच्छा तथा स्वतन्त्रता पूर्वक अपने धर्म का पालन कर सके इसलिए भारत मे धार्मिक स्वतन्त्रा का अधिकार दिया गया है।

कुछ और महत्वपूर्ण लेख –

0Shares

Leave a Comment